बुधवार, 16 नवंबर 2016

तुम लिख रहीं थीं,
मेरा नाम, रेत पर,
सागर किनारे
और मैं महसूस कर रहा था,
गीली रेत में तुम्हारी उँगली की छुअन
तुम्हारी पोरों की गर्मी से दहक रहा था,
मेरा नाम,
तुम्हारे स्पर्श सेऔर मैं,
मैं उस गर्मी को निगाहों में समेट
तुम्हारे गालों पर उड़ेल रहा था
तभी, एक लहर ने धो दी वो लिखाई,
गुम हो गया वो नाम जो था
अभी कुछ ही देर पहले तक
प्यार के प्रतीक सा,
जैसे कभी कहीं कुछ था ही नही
मैंने अपनी नजरें रेत से उठा
झांका तुम्हारी आँखों में
वहां कहीं भी नही थी मायूसी
लिखे के अनलिखे हो जाने की,
मेरी सवालिया नजरों को पढ़ लिया तुमने
और कहा, मिट जाने दो , मैं फिर लिखूंगी
कि मुझे प्यार है इस से, इस नाम से
और एक बार फिर वो हरारत महसूस हुई मुझे
फिर वही गीली रेत में तुम्हारी ऊँगली की छुअन
और मुझे प्यार हो गया
फिर से, तुमसे । <3

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

योग बनाम योगा

और एक बार फिर विक्रम बेताल को अपने कंधे पर लाद चुप रहने का निश्चय कर चल पड़ा | बेताल ने हमेशा की तरह समय बिताने के लिए बातों का सहारा ल...