सोमवार, 28 नवंबर 2016

मैंने प्रेम लिखा,
तुमने दर्द पढ़ा,
न जाने क्यूँ,
पर जब पढ़ा तो मुझे भी लगा
शायद दर्द ही था लिखा
अब जो मैं दर्द लिखूँ तो प्रेम पढोगे ?
शायद तब
तुम तक पहुँचने का ख्वाब पूरा हो सके ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

योग बनाम योगा

और एक बार फिर विक्रम बेताल को अपने कंधे पर लाद चुप रहने का निश्चय कर चल पड़ा | बेताल ने हमेशा की तरह समय बिताने के लिए बातों का सहारा ल...