रविवार, 20 नवंबर 2016

कैसा लगता है
जब थक के चूर हो,
बदन टूट रहा हो,
और काम न लिए जाने की,
रहम की भीख मांग रहा हो,
और जिम्मेदारियां,
रिंग-मास्टर सी चाबुक फटकारें
और बदन, किसी मदारी के बन्दर की तरह
हर चाबुक पर कलाबाजी दिखाते
काम पर लग जाता है तब, हाँ तब
सोचती हूँ कि थका क्या था ?
शरीर या मन ?
ये मन ही है जो इस टूटे शरीर को भी समेट कर
दौड़ के लिए तैयार कर देता है,
हर पल एक नए मुकाबले के लिए , और
मैं वारी जाती हूँ मन की इस ताकत पर,
तभी अनायास एक सवाल कचोटता है,
क्या हो गर मन ही थक जाए ?
शरीर उसे वापस बहला फुसला कर,
पुचकार कर ला पायेगा ? नहीं,
थका मन मुकाबले से पहले ही
तन को मुकाबले से बाहर करवा देगा,
और मैं डर से काँप उठती हूँ ,
इस मन के मरने या मारने के ख्याल भर से ही,
और थकन के चुनाव में शरीर को ही चुनती हूँ ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

योग बनाम योगा

और एक बार फिर विक्रम बेताल को अपने कंधे पर लाद चुप रहने का निश्चय कर चल पड़ा | बेताल ने हमेशा की तरह समय बिताने के लिए बातों का सहारा ल...